पंजाब में आतंकी हमलों की आशंका, पाक सीमा से जुड़े जिलों में हाई अलर्ट जारी

0

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान से रिश्तों में आई खटास को लेकर खुफिया एजेंसियां चौकस हो गई हैं। खुफिया एजेंसियों के इनपुट के आधार पर केंद्र सरकार ने पंजाब सहित सात राज्यों को चौकस रहने की हिदायत दी है। हालांकि तीन दिन पहले ही पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य के आला पुलिस अफसरों के साथ बैठक कर राज्य में सुरक्षा बढ़ाने, खास तौर पर पाक सीमा से सटे जिलों में हाई अलर्ट के आदेश जारी किए थे।

इस बीच, 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी राज्य में आतंकी हमले का खुफिया इनपुट मिलने के बाद राज्य सरकार और चौकस हो गई है।

सूत्रों के अनुसार, जम्मू-कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान ने भारत को फिदायीन हमलों की खुली धमकी दी है और पंजाब उसके लिए सबसे सॉफ्ट टारगेट हो सकता है, क्योंकि आतंकवाद के दौर में पंजाब से भागे कई खालिस्तान समर्थकों को पाकिस्तान ने अपने यहां शरण दे रखी है और वे आईएसआई की मदद से समय-समय पर पंजाब में माहौल खराब करने की कोशिश करते रहे हैं।

इसके अलावा खुफिया एजेंसियों ने राज्य सरकार को यह इनपुट भी दिया है कि पाकिस्तान से जैश और लश्कर के आतंकी भी पंजाब को निशाना बनाने की फिराक में हैं।

पंजाब पुलिस के आला अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया है कि राज्य में इन्हीं आशंकाओं के चलते, जम्मू-कश्मीर से 370 हटाए जाने के बाद जश्न मनाने पर रोक लगाई गई है और अन्य विरोध प्रदर्शनों को भी प्रतिबंधित किया गया है।
सूबे में स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रमों के मद्देनजर भी डीजीपी दिनकर गुप्ता ने सभी जिला पुलिस प्रमुखों को पत्र लिखकर 15 अगस्त तक भीड़भाड़ वाले सार्वजनिक स्थानों, शैक्षणिक व सेहत संस्थान, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, मल्टीप्लेक्स, सिनेमा घरों, बाजारों और धार्मिक स्थानों के आसपास चौकसी बढ़ाने के आदेश जारी किए हैं।

आतंकियों के लिए सॉफ्ट टारगेट रहा है पठानकोट

दरअसल, आतंकी हमलों को लेकर पंजाब की चिंता इसलिए भी वाजिब है, क्योंकि जिला पठानकोट एक तरफ जम्मू-कश्मीर और दूसरी तरफ पाकिस्तान सीमा से सटा है और हाल के वर्षों में पाकिस्तान समर्थक आतंकियों द्वारा किए दो बड़े आतंकी हमले झेल चुका है। इस तरह पठानकोट पाकिस्तानी आतंकियों के लिए सॉफ्ट टारगेट बन चुका है।

जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने 2 जनवरी, 2016 को तड़के 3:30 बजे पठानकोट स्थित वायु सेना स्टेशन पर हमला किया था। इस साल फरवरी माह के दौरान पुलवामा में सीआरपीएफ के वाहन को विस्फोट से उड़ाने की वारदात को पूरा देश नहीं भूल सका है।

दूसरी ओर, गुरदासपुर, अमृतसर, तरनतारन, फिरोजपुर और फाजिल्का जिलों की सीमा भी पाकिस्तान से लगती है। राज्य सरकार को ऐसे इनपुट मिले हैं कि पाकिस्तानी आतंकी इस बार जम्मू-कश्मीर की बजाए पंजाब को निशाना बनाने की कोशिश करेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.